आसमान से गिरी उल्का पिंड जैसी आफत, 2 किमी तक सुनाई दी धमाके की आवाज

जयपुर. राजस्थान के सांचोर शहर में तेज धमाके के साथ बमनुमा आकार की चीज आसमान से आकर गिरी और जमीन में एक फुट तक धंस गई। इस धमाके की आवाज 2 किमी दूर तक सुनाई दी। इस चीज को कोई उल्का पिंड बता रहा है, कोई मोर्टार, कोई बम तो कोई जहाज का टूटा हुआ हिस्सा। बहरहाल, यह चीज अब पुलिस के कब्जे में है और जांच जारी है।

जालोर जिले के सांचोर शहर में न्यू गायत्री कॉलेज से सटे क्षेत्र में शुक्रवार सुबह करीब सवा 6 बजे आसमान से तेज धमाके के साथ बमनुमा आकार का धातु टुकड़ा) हिस्सा गिरने से आसपास के इलाके में दहशत फैल गई। आसमान से गिरी वस्तु की आवाज इतनी तेज थी कि आसपास के करीब 2 किलोमीटर के क्षेत्र में धमाके की आवाज सुनी गई।

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि जिस गति से यह टुकड़ा जमीन पर गिरा, उसकी आवाज हेलिकॉप्टर जैसी होने के साथ उसके आगे पंखानुमा कुछ उपकरण लगा लग रहा था। वहीं कोई इसे मोर्टार जैसा बता रहा था। दूसरी ओर, इसे उल्का पिंड का टुकड़ा बताने की अफवाह चल रही तो कोई हवाई जहाज का टूटा हिस्सा होने की बात कह रहा है।

आसमान से गिरी वस्तु तीन घंटे बाद भी हीटिंग दे रही थी। ऐसे में विस्फोटक जैसी वस्तु से भी इनकार नहीं किया जा सकता। ऐसे में प्रशासन ने उस वस्तु से दूर रहने की सलाह दी।

कुछ प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि उन्होंने आसमान से एक तेज चमक के साथ एक टुकड़े को गर्जना के साथ नीचे गिरते देखा। नीचे गिरते ही एक धमाका हुआ। इसके ठंडा होने पर पुलिस ने उसे कांच के एक जार में रखवा दिया है। पुलिस का कहना है कि इसे विशेषज्ञों को दिखाया जाएगा।

प्रत्यक्षदर्शी अजमल देवासी के अनुसार, सुबह करीब सवा 6 बजे आसमान से कुछ गिरा जिसकी आवाज बहुत तेज थी जैसे कोई प्लेन आकर गिरा हो। जबरदस्त धमाका हुआ हालांकि किसी को मालूम भी नहीं चला कि क्या गिरा। आसपास में देखा तो जहां पर जमीन में देखने से खड्डा बना हुआ था। लोग कह रहे हैं कि हमने देखा नहीं लेकिन आवाज जरूर सुनाई दी। हमारे घर के करीब 100 मीटर दूरी पर ही गिरा। गिरने के बाद हमने धातु को देखा तो तुरंत प्रशासन को सूचना दी, उसके बाद प्रशासन मौके पर पहुंचा और मामले की जांच शुरू की।


जालौर में आईबी के इंस्पेक्टर मंगल सिंह के मुताबिक, आसमान से तेज आवाज के साथ धातु गिरने की सूचना मिली है, जिसको देखते हुए स्थानीय पुलिस प्रशासन व उपखंड अधिकारी मौके पर पहुंचे। आसमान से गिरी धातु का टुकड़ा करीब एक फीट जमीन में अंदर धंसा था। इसका वजन करीब पौने 3 किलो के आसपास था और काफी गर्म था। पुलिस ने इसे कब्जे में लेकर इसकी सूचना जिला कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक को दी है। इस मामले को लेकर जांच की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि आकाश में कभी-कभी एक ओर से दूसरी ओर अत्यंत वेग से जाते हुए अथवा पृथ्वी पर गिरते हुए जो पिंड दिखाई देते हैं, उन्हें उल्का और साधारण बोलचाल में टूटता तारा कहते हैं। उल्काओं का जो अंश वायुमंडल में जलने से बचकर पृथ्वी तक पहुंचता है उसे उल्कापिंड कहते हैं।


प्रत्येक रात को उल्काएं अनगिनत संख्या में देखी जा सकती हैं, लेकिन इनमें से पृथ्वी पर गिरने वाले पिंडों की संख्या बहुत कम होती है। वैज्ञानिक दृष्टि से इनका महत्व बहुत अधिक है क्योंकि एक तो ये अति दुर्लभ होते हैं, दूसरे आकाश में विचरते हुए विभिन्न ग्रहों इत्यादि के संगठन और संरचना के ज्ञान के प्रत्यक्ष स्रोत केवल ये ही पिंड हैं।

Latest News Updates पाने के लिए हमें फेसबुकटेलीग्रामइंस्टाग्रामट्विटर पर लाइक और फॉलो करें.

Show More