हथिनी की मौत पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा-पटाखे खिलाना और हत्या करना भारतीय संस्कृति में नहीं है

Democratic Nation Tv की ताज़ा अपडेट्स के लिए फेसबुक(@democraticnationtv), इंस्टाग्राम(democraticnationtv_2020) व ट्विटर(@democraticNTv), पर फॉलो और कमेंट करें

नई दिल्ली. केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केरल में एक गर्भवती जंगली हथिनी की पटाखों से भरा अनानास खिलाने से हुई मौत पर गंभीर संज्ञान लेते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति में पटाखे खिलाना और हत्या करना शामिल नहीं है।

 

FILE PHOTO ANI

सोशल मीडिया पर बवाल मचाने वाली इस घटना के बारे में ट्वीट करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि सरकार दोषियों को सजा देने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘केंद्र सरकार ने मलप्पुरम में एक हथिनी की हत्या पर गंभीर संज्ञान लिया है। हम इस घटना की उचित जांच करने और दोषियों को पकड़ने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। पटाखे खिलाना और हत्या करना भारतीय संस्कृति में शामिल नहीं हैं।’’

बुधवार रात को एक बयान में जावड़ेकर ने केरल में गर्भवती जंगली हथिनी की क्रूरता से हत्या करने के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का वादा किया था। जावड़ेकर ने कहा, ‘‘पर्यावरण मंत्रालय ने केरल में एक हथिनी की मौत पर गंभीर संज्ञान लिया है। घटना की रिपोर्ट मांगी है। दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।’’

मेनका गांधी ने घटना को लेकर किया ट्वीट : हथिनी की मौत को लेकर मेनका गांधी ने ट्वीट कर कहा, ”ये हत्या है, मल्लापुरम ऐसी घटनाओं के लिए कुख्यात है, यह देश का सबसे हिंसक राज्य है। उदाहरण के लिए यहां लोग सड़कों पर जहर फेंक देते हैं जिससे 300 से 400 पक्षी और कुत्ते एक साथ मर जाएं।”

(Photo by STR / AFP)

क्या है पूरा मामला : बता दें कि केरल में एक हथिनी के साथ हैवानियत की एक अजीबो गरीब घटना सामने आई जब कुछ लोगों ने उसे पटाखों से भरा अनानास खिला दिया। पटाखे उसके मुंह में फट गए और गर्भवती मादा हाथी की मौत हो गई। शिकारी इस तरीके को खास तौर से जंगली सूअरों को पकड़ने के लिए इस्तेमाल करते हैं। यह मामला उस वक्त सामने आया, जब उत्तरी केरल के मलप्पुरम में एक फॉरेस्ट अफसर ने इस घटना को अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया।

Hindi News  से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.

Show More